द्रविड़ ने बचाई भारत की लाज


नाबाद शतक ठोंका, इंग्लैंड को 188 रनों की बढ़त
 टेस्ट इतिहास के 2000वें टेस्ट में मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर के महाशतक को लेकर हो हल्ला मचा था, लेकिन श्रीमान भरोसेमंद राहुल द्रविड़ (नाबाद 103) ने लार्ड्स मे अपना पहला शतक बनाकर भारत को इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट में तीसरे दिन शनिवार को शर्मिन्दगी से बचा लिया।

द्रविड़ ने 220 गेंदों का सामना कर अपने 33वें शतक में 15 चौंके लगाए। तीसरे नंबर पर उतरे द्रविड़ एक छोर संभालकर अंत तक नाबाद रहे। भारत की पहली पारी दिन की समाप्ति से कुछ ओवर पहले 286 रन पर सिमटी। पहली पारी में 474 रन बनाने वाले इंग्लैंड को 188 रन की भारी बढ़त हासिल हुई। इंग्लैंड ने तीसरे दिन का खेल समाप्त होने तक बिना कोई विकेट खोए 5 रन बना लिए और उसकी कुल बढ़त 193 रन की हो गई है। कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस तीन और एलेस्टेयर कुक शून्य पर नाबाद थे।

द्रविड़ ने लार्ड्स में अपना पहला शतक बनाने के साथ न केवल भारतीय पारी को पतन से बचाया बल्कि वे ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग को पीछे छोड़कर टेस्ट इतिहास में सचिन के बाद सर्वाधिक रन बनाने वाले दूसरे बल्लेबाज बन गए।

भारतीय क्रिकेट की दीवार कहे जाने वाले द्रविड़ ने 42 रन के निजी स्कोर पर मिले जीवनदान का फायदा उठाते हुए यादगार शतक बनाया। ओपनर अभिनव मुकुंद 49, सचिन 34, कप्तान महेन्द्रसिंह धोनी 28 और प्रवीण कुमार 17 रन बनाकर आउट हुए।

स्टुअर्ट ब्रॉड 37 रन पर चार विकेट लेकर सबसे सफल रहे। क्रिस ट्रेमलेट ने 80 रन पर तीन विकेट, जेम्स एंडरसन ने 87 रन पर दो और ग्रीम स्वान ने 50 रन पर एक विकेट लिया। द्रविड़ ने सचिन के साथ तीसरे विकेट के लिए 81 रन, धोनी के छठे विकेट के लिए 57 और प्रवीण के साथ आठवें विकेट के 35 रन जोड़कर भारत को 286 तक पहुंचाया।

भारत ने चायकाल तक अपने पांच विकेट 193 रन पर खो दिये थे, लेकिन इसके बाद द्रविड़ ने साहसिक बल्लेबाजी करते हुए न केवल अपना 33वां शतक बनाया बल्कि भारतीय पारी को फालोऑन से बचा लिया।

ब्रॉड ने शानदार गेंदबाजी करते हुए भारत के दोनों ओपनरों गौतम गंभीर (15) और अभिनव मुकुंद (49), सचिन (34) और प्रवीण (17) के विकेट झटके। एंडरसन ने आखिरी दो विकेट लेकर भारतीय पारी समेट दी। ट्रेमलेट ने लक्ष्मण, धोनी और हरभजन को आउट किया। भारत ने चायकाल से पहले 25 रन के अंतराल में सचिन, लक्ष्मण और रैना के विकेट गंवाए, जिससे भारतीय पारी संभल नहीं सकी।

भारत तीन विकेट पर 182 रन बनाकर संभल ही रहा था कि एक रन के ही अंतराल में उसने लक्ष्मण और रैना के विकेट गंवा दिए। भारत ने सुबह के सत्र में गंभीर और मुकुंद के विकेट गंवाए थे, जबकि लंच और चायकाल के बीच उसने सचिन, लक्ष्मण और रैना को गंवा दिया।

पारी के 46वें ओवर में लक्ष्मण और द्रविड़ दोनों को ब्रॉड की गेंदों पर स्लिप में जीवनदान मिले। उस समय लक्ष्मण का खाता नहीं खुला था, जबकि द्रविड़ 42 रन पर थे। लक्ष्मण का कैच इंग्लैंड के कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस ने और द्रविड का कैच दूसरी स्लिप पर ग्रीम स्वान ने छोड़ा।

लक्ष्मण जीवनदान का ज्यादा फायदा नहीं उठा सके और मात्र 10 रन बनाकर क्रिस ट्रेमलेट की गेंद पर फाइन लेग पर जोनाथन ट्रॉट को आसान कैच थमा बैठे। अगले ही ओवर में ऑफ स्पिनर स्वान ने बाएं हाथ के बल्लेबाज रैना को पगबाधा कर दिया।

ब्रॉड ने भारत के दोनों ओपनरों गंभीर और मुकुंद को सुबह के सत्र में निपटाकर इंग्लैंड को लंच तक ही अच्छी स्थिति में पहुंचा दिया था। लंच तक भारत ने दो विकेट खोकर 102 रन बनाए थे, लंच के समय द्रविड़ 15 और सचिन दस रन बनाकर क्रीज पर थे।

मुकुंद मात्र एक रन से लार्ड्स में अर्धशतक बनाने से चूक गए। उन्होंने 88 गेंदों पर 49 रन की अपनी पारी में पांच चौके लगाए। गंभीर 15 रन बनाकर आउट हुए। ब्रॉड ने दोनों बल्लेबाजों को बोल्ड आउट किया।

इससे पहले सुबह भारत ने बिना किसी नुकसान के 17 रन से आगे खेलना शुरू किया। गंभीर ने पिच पर पांव जमाने को तरजीह दी, जबकि मुकुंद ने अधिक प्रभावशाली तरीके से बल्लेबाजी की। उन्होंने एंडरसन पर दिन का पहला चौका जमाया और ट्रेमलेट की लगातार गेंदों को सीमा रेखा के दर्शन कराए।

ब्रॉड दिन के नौवें और पारी के 15वें ओवर में गेंदबाजी के लिए आए। मुकुंद ने उनका स्वागत चौके से किया, लेकिन दाएं हाथ का यह गेंदबाज अपने तीसरे ओवर में भारत को पहला झटका देने में सफल रहा। उनकी फुललेंग्थ लेकिन आउटस्विंगर पर गंभीर ने ढिलाई बरती और उनका मिडिल स्टंप उखड़ गया। चोट के कारण वेस्टइंडीज दौरे पर से बाहर रहने वाले गंभीर ने 46 गेंद खेली और एक चौका लगाया।

मुकुंद अर्धशतक बनाने के लिए उतावले दिखे और ब्रॉड ने ऐसे में राउंड द विकेट से की गई अपनी कुछ गेंदों पर उन्हें परेशान भी किया। ऐसी ही बाहर जाती गेंद उनके बल्ले का अंदरूनी किनारा लेकर ऑफ स्टंप उखाड़ गई और इस तरह से उन्होंने इंग्लैंड को इनाम में अपना विकेट दिया। मुकुंद वेस्टइंडीज के खिलाफ ब्रिजटाउन में 48 रन पर आउट हुए थे और एक महीने के अंदर दूसरी बार वे अर्धशतक से चूक गए। उन्होंने अपनी पारी में 88 गेंद खेली और पांच चौके लगाए।

~ by bollywoodnewsgosip on July 24, 2011.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: