देश के विकास के लिए, अब हमें थमना होगा…


11 जुलाई : विश्व जनसंख्या दिवस पर विशेष
देश में जिस गति से आबादी बढ़ रही उस हिसाब से देश के संसाधनों पर सन् 2026 तक न केवल 40 करोड़ और लोगों का दबाव बढ़ जाएगा, बल्कि हम जनसंख्या के मामले में चीन को भी पीछे छोड़ देंगे।इस वर्ष विश्व जनसंख्या दिवस का ध्येय वाक्य ‘विकास नियोजन के लिए आंकड़े का महत्व’ है, लेकिन हमारी तेजी से बढ़ती जनसंख्या के कारण संसाधनों पर उसका दबाव लगातार बढ़ता जा रहा है और विकास योजनाएं वांछित परिणाम नहीं दे पाती।

हालांकि योजना आयोग के प्रवक्ता एन एन कौल कहते हैं कि इसमें कोई शक नहीं है कि विकास की योजनाएं तैयार करने में आंकड़ों का बड़ा महत्व है, लेकिन जिन योजनाओं में अभीष्ट लक्ष्य नहीं मिल पाता ,उसके संदर्भ में हकीकत यह होती है कि जो लक्ष्य रखा जाता है वह वास्तविक लक्ष्य से उंचा होता है और यह उम्मीद की जाती है कि उसे हासिल कर लिया जाएगा, लेकिन कई बार वह हासिल नहीं हो पाता।

योजनाओं के लक्ष्य पर नहीं पहुंच पाने की एक दूसरी प्रमुख वजह यह भी है कि जिस समयावधि के लिए योजना होती है उस दौरान लक्षित वर्गसमूह की जनसंख्या बढ़ जाती है। इस प्रकार योजना का वांछित परिणाम नहीं मिल पाता।

देश की जनसंख्या करीब एक अरब 18 करोड़ है जबकि आजादी के समय आबादी करीब 35 करोड़ थी यानी आबादी में तीन गुणा से भी ज्यादा की वृद्धि हुई। जिस तेजी से देश की जनसंख्या बढ़ती जा रही है उससे भारत 2030 तक विश्व में सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश बन जाएगा और चीन से काफी आगे निकल जाएगा।

सन् 2050 तक देश की जनसंख्या 1.6 अरब हो जाने की संभावना है। माना जा रहा है इसके बाद भारत की आबादी स्थिर हो जाएगी। फिलहाल भारत की जनसंख्या विश्व जनसंख्या का 17 फीसदी है। जबकि भारत की भूमि विश्व भूखंड का महज तीन प्रतिशत हिस्सा है। विश्व में बीमारियों का जितना बोझ है उसका 20 फीसदी बोझ भारत पर है।

बताया जाता है कि हर दस वर्ष में 18 करोड़ की जनसंख्या जुड़ जाती है जो ब्राजील की जनसंख्या के बराबर है। हालांकि मृत्युदर में कमी आयी है लेकिन जन्मदर में वांछित कमी नहीं आ पायी। बिहार, राजस्थान और मध्यप्रदेश जैसे राज्यों में 50 प्रतिशत महिलाएं 18 वर्ष से कम उम्र में ब्याह दी जाती हैं और कम उम्र में वे मां बन जाती हैं।

विश्व जनसंख्या दिवस 1987 से मनाया जा रहा है। दरअसल उस वर्ष विश्व की जनसंख्या पांच अरब को पार कर गई थी। संयुक्त राष्ट्र ने जनसंख्या वृद्धि को लेकर दुनियाभर में जागरूकता फैलाने के लिए यह दिवस मनाने का निर्णय लिया।

विश्व की जनसंख्या छह अरब 82 करोड़ है। सन 2040 और 2050 के बीच विश्व की जनसंख्या के नौ अरब का आंकड़ा पार कर जाने की संभावना है।

~ by bollywoodnewsgosip on July 11, 2011.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: