भारत की बादशाहत के आगे इंडीज नतमस्तक


विश्व की नम्बर एक टीम भारत ने राहुल द्रविड (112) के बेहतरीन शतक के बाद गेंदबाजों के दमदार प्रदर्शन की बदौलत वेस्टइंडीज को पहले क्रिकेट टेस्ट में साढे़ तीन दिन में 63 रन से शिकस्त देकर तीन टेस्टों की सिरीज में 1-0 की बढ़त हासिल कर ली। द्रविड़ को ‘मैन ऑफ द मैच’ घोषित किया गया। ईशांत और प्रवीण कुमार ने दोनों पारियों में कुल 6-6 विकेट झटके।

भारत ने वेस्टइंडीज के सामने जीत के लिए 326 रन का मुश्किल लक्ष्य रखा था और मेजबान को चौथे दिन लंच के बाद 262 रन पर लुढ़काकर वेस्टइंडीज के खिलाफ अपनी 12वीं टेस्ट जीत जासिल कर ली।

भारत की कैरेबियाई जमीन पर यह पांचवीं जीत है। भारत ने 1971, 1976 और 2002 में पोर्ट ऑफ स्पेन में तथा 2006 में किंग्सटन में टेस्ट जीते थे।

दूसरी पारी में प्रवीण ने 42 रन पर तीन विकेट ईशांत शर्मा ने 81 रन पर तीन विकेट, अमित मिश्रा 62 रन पर दो विकेट और हरभजन सिंह ने 46 रन पर एक विकेट लेकर भारत को कैरेबियाई जमीन पर पांचवी टेस्ट जीत दिला दी। सुरेश रैना ने देबेन्द्र बिशू को लंच के बाद बोल्ड करके इंडीज की पारी 262 पर समेट दी।

भारतीय गेंदबाजों के दमदार प्रदर्शन के आगे कैरेबियाई बल्लेबाजों ने घुटने टेक दिए। सबीना पार्क की पिच से मिल रही स्विंग और उछाल ने वेस्टइंडीज के बल्लेबाजों को विकेट पर टिकने का कोई मौका नहीं दिया। वेस्टइंडीज ने लंच से पहले 95 रन जोड़कर छह विकेट गंवा दिए थे।

वेस्टइंडीज ने सुबह जब अपनी पारी 131 रन से आगे बढाई तो यही देखना बाकी था कि उसके बल्लेबाज संघर्ष को कितना खींच पाते हैं, लेकिन स्विंग के उस्ताद बन गए प्रवीण ने एक रन के अंतराल में नाबाद बल्लेबाजों डेरेन ब्रावो और शिवनारायण चन्द्रपाल को आउट कर मेजबान टीम का संघर्ष समाप्त कर दिया।

रही सही कसर लेग स्पिनर अमित मिश्रा ने ब्रैंडन नैश और कप्तान डेरेन सेमी को आउट कर पूरी कर दी। ऑफ स्पिनर हरभजन ने कार्लटन बा का विकेट झटका जबकि ईशांत ने लंच से पहले उठती गेंद से रवि रामपाल का शिकार कर लिया।

ब्रावो और चन्द्रपाल बुधवार को क्रमश: 30 और 24 रन पर नाबाद थे। दोनों टीमों के स्कोर को 148 रन तक ले गए। उनके बीच 68 रन की साझेदारी हो चुकी थी।

पहली पारी में तीन विकेट झटकने वाले प्रवीण ने राउंड द विकेट आते हुए गेंदं को ऑफ स्टम्प से लेग स्टम्प की तरफ निकालते हुए ब्रावो को बोल्ड कर दिया। ब्रावो ने सात चौकों की मदद से 41 रन बनाए।

ब्रावो के आउट होते ही चन्द्रपाल अपनी एकाग्रता खो बैठे और प्रवीण की गेंद पर सुरेश रैना को कवर में आसान कैच थमा बैठे। चन्द्रपाल ने चार चौकों के सहारे 30 रन बनाए।

हरभजन ने कार्लटन बा (0) को गलती करने के लिए मजबूर किया और वह लेग स्लिप में विराट कोहली को कैच दे बैठे। वेस्टइंडीज ने दो रन के अंतराल में तीन विकेट गंवा दिए और उसका स्कोर छह विकेट पर 150 रन हो गया था।

कप्तान सैमी ने आने के साथ ही हरभजन की गेंदों पर लगातार तीन छक्के मारे लेकिन मिश्रा ने आक्रमण पर लगाए जाने के साथ ही सैमी को वीवीएस लक्ष्मण के हाथों लपकवा दिया। सैमी ने मात्र 11 गेंदों में 25 रन ठोंके।

रवि रामपाल ने भी कुछ आक्रामक प्रहार करते हुए छह चौकों और एक छक्के की मदद से 34 रन बनाए। मिश्रा ने नैश (9) पगबाधा कर अपना दूसरा विकेट लिया जबकि ईशांत की एक उठती गेंद पर रामपाल खुद को गेंद की लाइन से अलग नहीं कर सके और विकेटकीपर महेन्द्रसिंह धोनी ने हवा में उछलते हुए एक हाथ से शानदार कैच लपक लिया।

वेस्टइंडीज का नौवां विकेट 223 के स्कोर पर गिरा था, जबकि 262 पर मेजबान टीम ने अंतिम विकेट देबेन्द्र बिशू का गंवाया। इस तरह भारत 63 रनों से पहला टेस्ट जीतने में सफल रहा।

~ by bollywoodnewsgosip on June 24, 2011.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: