राणा के खिलाफ गवाही देगा हेडली


मुंबई आतंकवादी हमलों की साजिश में सहयोग करने वाले पाकिस्तानी मूल के कनाडाई नागरिक तहव्वुर हुसैन राणा के खिलाफ सोमवार से यहां शुरू अदालती कार्यवाही के दौरान सरकारी वकील ने कहा कि राणा का मित्र डेविड कोलमैन हेडली इस मुकदमे में अभियुक्त के खिलाफ बयान देगा।

आतंकवाद से जुड़े इस महत्वपूर्ण मुकदमे ‘अमेरिका बनाम कश्मीरी’ में सुनवाई के पहले दिन सरकारी वकील सारा स्ट्रीकर ने अदालत को बताया कि हेडली इस बात का खुलासा करेगा कि राणा ने भारत में आतंकवादी हमलों के संभावित ठिकानों की पहचान में उसकी किस प्रकार मदद की।

वकील के अनुसार राणा ने हेडली को उसकी गतिविधियों को जारी रखने में आवश्यक सहायता और कवर प्रदान किया। राणा की ट्रेवल कंपनी के प्रतिनिधि के रूप में हेडली ने भारत के विभिन्न स्थानों का भ्रमण किया था।

शिकागो की जिला अदालत के जज हैरी लीनेनवेबर और 12 सदस्यीय जूरी इस सनसनीखेज मुकदमे की सुनवाई कर रही है। आज से शुरू हुआ यह मुकदमा जून के मध्य तक जारी रहेगा।

अभियोजन पक्ष के अनुसार हेडली ने मुम्बई हमले के पहले संभावित ठिकानों के फोटोग्राफ और वीडियो चित्र लिए थे। हेडली मौत की सजा और भारत प्रत्यर्पित किए जाने से बचने के लिए वादामाफ गवाह बन गया है।

सरकारी वकील ने कहा कि वादामाफ गवाह के रूप में हेडली राणा और पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई की भूमिका का खुलासा करेगा। उन्होंने कहा कि राणा ने दो आतंकवादी हमलों की साजिशों में सहयोग दिया। एक साजिश पैगम्बर हजरत मोहम्मद की तस्वीर छापने वाले डेनमार्क के समाचारपत्र के खिलाफ थी, जिसे नाकाम बना दिया गया। दूसरी साजिश मुंबई आतंकवादी हमलों की थी, जो दुर्भाग्य से अंजाम तक पहुंची।

वकील स्ट्रीकर ने कहा कि राणा ने यह जानते-बूझते हेडली की मदद की कि उसकी गतिविधियों के भंयकर परिणाम हो सकते हैं। इस मुकदमे की कार्यवाही को भारत सहित पूरी दुनिया में बहुत गौर से देखा जा रहा है। यह मुकदमा आतंकवाद के खिलाफ जारी विश्वव्यापी जंग का महत्वपूर्ण अध्याय मना जा रहा है।

अभियुक्त राणा के वकील चार्ली स्विफ्ट के अनुसार उनका मुव्वकिल उसके खिलाफ लगाए गए आरोपों को अस्वीकार करता है। आरोप सिद्ध होने पर राणा को आजीवन कारावास की सजा हो सकती है।

अभियोजन पक्ष के आज के प्रारंभिक बयान के बाद बचाव पक्ष के वकील अपना पक्ष रखेंगे। उनकी मुख्य दलील यह होगी कि राणा को हेडली की गतिविधियों का भान नहीं था तथा उसने एक मित्र के रूप में हेडली पर भरोसा किया।

इस मुकदमे में राणा के अलावा पांच अन्य अभियुक्त हैं, जिनमें पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई का मेजर इकबाल और आतंकवादी संगठन लश्करे तैयबा के आतंकवादी शामिल हैं। राणा के अलावा कोई अन्य अभियुक्त अभी अमेरिकी पुलिस की गिरफ्त में नहीं आया है।

उल्लेखनीय है कि नवंबर 2008 में हुए मुंबई आतंकवादी हमलों में 166 लोग मारे गए थे। इन हमलों को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच तनातनी काफी बढ़ गई थी।

अमेरिकी अधिकारियों द्वारा डेविड हेडली और राणा की गिरफ्तारी के बाद मुंबई हमलों की साजिश परत दर परत उजागर हो रही है। अमेरिका और पाकिस्तान के रिश्तों में हाल में आई कटुता इस मुकदमे के कारण और बढ़ सकती है। इस मुकदमे को अमेरिकी इतिहास में एक प्रमुख आतंकवाद विरोधी मुकदमा माना जा रहा है।

~ by bollywoodnewsgosip on May 24, 2011.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: