लीबिया पर तेज हुआ घमासान


संयुक्त राष्ट्र, नाटो जैसी विश्व की प्रमु्ख एजेंसियों ने लीबिया के तानाशाह मुअम्मर गद्दाफी पर दबाव और बढ़ा दिया है। अमेरिका को आशंका है कि गद्दाफी समर्थकों और विरोधियों के मध्य चल रहा टकराव गृहयुद्ध का रूप ले लेगा। उधर अमेरिका विरोधी वेनेजुएला और ईरान ने लीबिया पर सैन्य कार्रवाई नहीं करने की चेतावनी दी है।

लीबिया गृहयुद्ध’ के कगार पर : हिलेरी ने विदेश मामलों की हाउस कमेटी के समक्ष कहा कि उनका देश मुअम्मर गद्दाफी के खिलाफ विश्व की नाराजगी को कार्रवाई और परिणाम में परिवर्तित करने के प्रयास कर रहा है। उन्होंने कहा कि आने वाले वर्षों में लीबिया या तो शांतिपूर्ण लोकतंत्र के रूप में परिवर्तित हो सकता है या देश दीर्घकालिक गृहयुद्ध का सामना कर सकता है। इसके साथ ही यह भी हो सकता है कि वहाँ अराजकता की स्थिति उत्पन्न हो जाए।

140,000 लोग लीबिया से भागे: संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेंसी के अधिकारियों का कहना है कि लीबिया के शासक मोअम्मर कज्जाफी के वफादार सैनिकों द्वारा सैकड़ों लोगों की हत्या और पश्चिमी लीबिया में मानवीय सहायता अवरुद्ध किए जाने के साथ 140,000 से ज्यादा लोग वहाँ से मिस्र और ट्यूनीशिया भाग गए हैं।

संरा मानवाधिकार परिषद से लीबिया को हटाया : संयुक्त राष्ट्र महासभा ने सर्वसम्मति से लीबिया को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद से हटाने का निर्णय किया है। वहाँ मुअम्मर गद्दाफी के शासनकाल में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों पर जारी हमलों के मद्देनजर यह निर्णय किया गया है।

नाटो किसी भी स्थिति के लिए तैयार : लीबिया में किसी भी संभावित स्थिति से निपटने की तैयारी के लिए नाटो के सदस्य देश आपस में विचार-विमर्श कर रहे हैं। गठबंधन की प्रवक्ता ने यह जानकारी देते हुए कहा कि मुअम्मर गद्दाफी के वफादार बलों को उनके खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों पर विमानों से बमबारी करने से रोकने के उद्देश्य से लीबिया के आकाश को उड़ान रहित क्षेत्र घोषित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र से मंजूरी की आवश्यकता है।

विनाशकारी होगा अमेरिकी हमला : अमेरिका के धुर आलोचक वेनेजुएला के राष्ट्रपति ह्यूगो शावेज ने चेतावनी दी है कि अमेरिका और पश्चिमी देशों की ओर से लीबिया पर होने वाले किसी हमले के विनाशकारी नतीजे होंगें। दूसरी ओर ईरान ने भी अमेरिका को आगाह किया है कि वह लीबिया की वर्तमान अशांति की आड़ में उस पर हमला नहीं करें।

तौरेग लड़ाकों की नियुक्त कर रहे हैं गद्दाफी : लीबिया के शासक गद्दाफी ‘डॉलर और हथियारों’ के प्रलोभन के बलबूते माली और नाइजर से सैकड़ों युवा तौरेग लड़ाकों को अपने देश में नियुक्त कर रहे हैं। इनमें बहुत से पूर्व बागी भी शामिल हैं।

उत्तरी माली के प्रांत किदाल की रीजनल एसेंबली के अध्यक्ष अब्दोउ सलाम अग असालात ने कहा कि हम इस बात के कई पहलुओं को लेकर चिंतित हैं। उन्होंने कहा कि ये युवा जत्थों में लीबिया जा रहे हैं।

राजदूतों को हटाने का प्रयास : संयुक्त राष्ट्र में लीबिया के सहायक राजदूत इब्राहिम दब्बासी ने कहा है कि मुअम्मर कज्जाफी उन्हें और राजदूत मुहम्मद शलघम को हटाने का प्रयास का रहे हैं। दब्बासी ने बताया कि संयुक्त राष्ट्र इस तरह के किसी भी प्रयास को स्वीकार नहीं करेगा।

Mns India

~ by bollywoodnewsgosip on March 2, 2011.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: